इंडियन आयल ने स्वच्छता पखवाड़ा मनाया

भोपाल।स्वच्छता पखवाड़ा सिलसिले में  सतीश कुमार, एग्ज़ीक्यूटिव डाइरेक्टर, इंडियन आयल के नेतृत्व में कार्पोरेशन के कर्मचारियों ने भोपाल के स्टॉप नंबर 5 के तालाब की सफाई की| इंडियन आयल के कर्मचारियों ने भोपाल नगर निगम के कर्मियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य किया और यह संदेश दिया कि स्वच्छता हर व्यक्ति का उत्तरदायित्व  है, चाहे वह समाज के किसी भी स्तर पर हो। तालाब की सफाई के पश्चात  सतीश कुमार, एग्ज़ीक्यूटिव डाइरेक्टर, इंडियन आयल  ने नगर निगम के कर्मियों को उपहार दे कर सम्मानित किया। इंडियन आयल सार्वजनिक क्षेत्र की एक ‘महारत्न’ कंपनी है। इसने गत वर्ष 6 लाख करोड़ रुपये का कारोबार किया था। इंडियन आयल को ग्लोबल फार्चून 500 कंपनियों की सूची में 137 वाँ स्थान प्राप्त है। भारत की 23 में से 11 रिफ़ाइनरी इंडियन आयल की हैं। देश में बिकने वाले पैट्रोलियम उत्पाद में इंडियन आयल की करीब आधी साझेदारी है। इंडियन आयल के व्यावसायिक परिक्षेत्र में संपूर्ण हाइड्रोकार्बोन वैल्यू चैन है। इसमे तेल संशोधन, उत्पादों का पाइपलाइन के द्वारा परिवहन, तेल एवं गैस का शोधन, तेल एवं गैस का विपणन, तथा विभिन्न ऊर्जा स्त्रोत का दोहन है। इंडियन आयल की संयुक्त इकाइयाँ अन्य देश जैसे – श्रीलंका, मौरीशस, संयुक्त अरब, सिंगापुर तथा अमेरिका  में भी हैं। देश में कच्चे तेल एवं परिष्कृत उत्पादों के परिवहन हेतु, निगम की 13400 किमी पाइपलाइनों का जाल है|  इंडियन आयल के पास 1000 से ज़्यादा पेटेंट भी हैं। इंडियन आयल के 27,000 पेट्रोल पम्प जिसमे 7,700 ग्रामीण किसान सेवा केंद्र भी शामिल हैं, देश में मोटर वाहनों के चालकों के सेवा में तत्पर हैं।    खाना  पकाने की गै स    इंडेन 13 करोड़ परिवारों तक कार्पोरेशन के 10,200 डिस्ट्रिब्यूटर के  माध्यम से पहुँचाई जाती है। इंडियन आयल एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक है।  इसके मध्यप्रदेश राज्य कार्यालय ने गत वर्ष, अपने  सामाजिक दायित्व को निभाते हुये दिव्याङ्ग बच्चों के लिए छात्रावास बनाया, तथा भोपाल एवं इंदौर के नगर निगमों को कचरा उठाने हेतु वाहन उपलब्ध करवाए।