साढ़े चार साल में पैसा दुगना करने के लालच में हुई 5 करोड़ की ठगी

महाराष्ट्र की कंपनी में पैसा दुगना होने का लालच बताकर वर्ष 2012 में जमा कराया था, अब समयावधि निकलने के दो साल बाद मूल पैसा भी नहीं आया तो की पुलिस को शिकायत
उज्जैन। चिंतामण गणेश तथा इसके आसपास के क्षेत्रों में किसान तथा आमजन के साथ करीब 5 करोड़ की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है, इन्हें महाराष्ट्र की एक कंपनी में पैसा साढ़े चार साल में दुगना होने की योजना बताकर ठगा गया। जब साढ़े चार साल बाद पैसा दुगना नहीं हुआ बल्कि जो जमा किया था वह भी डूब गया तो अब ठगाए लोगों ने पुलिस महानिदेशक के नाम ज्ञापन सौंपकर ठगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
कृषि कार्य करने वाले संजय पिता शंकरलाल प्रजापत निवासी चिंतामण गणेश एवं संदीप आंजना पिता विक्रमसिंह आंजना निवासी ग्राम ब्रजराजखेड़ी ने बताया कि लाखन सिंह पिता बाबूसिंह डोडिया निवासी जूना निनोरा, मनोहर पटेल पिता सावंत पटेल निवासी मांगलिया इंदौर से जान पहचान होने के बाद उनके द्वारा बताया गया था कि वह महाराष्ट्र के पुणे में सांई प्रसाद कारपोरेशन लिमिटेड में काम करते है इस कंपनी में उपभोक्ताओं के हित की योजनाएं चल रही है जिसमें कुछ योजना में साढ़े चार साल में तथा कुछ में पांच वर्ष में राशि दुगनी हो जाती है। लाखन की बात में आकर संजय, संदीप के साथ कई लोगों ने मिलकर करीब 5 करोड़ रूपये कंपनी में संचालित योजना में जमा करा दिये। संजय, संदीप ने बताया कि राशि जमा कराते समय लाखन ने जिम्मेदारी ली थी कि जो राशि जमा करा रहे हैं वह यदि कंपनी भाग गई या बंद भी हो गई तो वह देगा। 4 अप्रैल 2012 को राशि जमा कराई थी, साढ़े चार साल में दुगना होने को कहा जिसकी अवधि 29 नवंबर 2016 को पूरी हो गई, तो जमा कराने वालों ने लाखन से राशि की मांग की तो लाखन ने टालमटोल करते हुए कह दिया कि जिस कंपनी में राशि लगाई थी वह भाग गई और पैसा डूब गया। लाखनसिंह द्वारा बनाये गये एजेंट राजेन्द्र माली निवासी चिंतामण गणेश द्वारा संजय, संदीप को डरा धमकाकर जान से मारने की धमकी दी जा रही है। लाखन द्वारा जिम्मेदारी ली गई थी कि यदि कंपनी भाग गई या बंद हो गई तो जमा राशि वह देगा लेकिन आज दो वर्ष बीत जाने के बाद भी किसी प्रकार की कोई राशि वापस नहीं की गई। संजय, संदीप ने बताया कि लाखनसिंह द्वारा क्षेत्र के आसपास के रहने वाले सुनील जोशी, सुरेन्द्रसिंह, दिनेश जोशी, संतोष, पवन, राकेश चैधरी, दरबार चैधरी, हरिराम सेन, सोनू माली, रमेश माली, सोमेश्वर माली, गिरीराज नागर सहित कई एजेंट बनाये गये थे इन्हीं के द्वारा कई अन्य व्यक्तियों से राशि वसूल की गई थी। गुरूवार को पुलिस कंट्रोल रूम पर पुलिस महानिदेशक के नाम ज्ञापन सौंपकर आमजनता के साथ ठगी करने वालों के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की मांग की।