Monday, December 18, 2017
Headlines
भ्रष्ट अधिकारियों पर फिर बिफरे सीएम, बोले भ्रष्टों को टांग दो  ||   भोपाल में खुले में शौच पर लगाया 500 रुपये का जुर्माना  ||   धूमधाम से मनाया गया शंकराचार्य जी का प्राकट्योत्सव  ||  सच में लोकतंत्र है तो धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ नहीं होगा : आजम खान  ||  मुस्लिम महिलाओं के लिए नए युग की शुरुआत : अमित शाह  ||  ट्रिपल तलाक पर के फैसले पर बोले पीएम, महिला सशक्‍तीकरण की दिशा में अहम कदम  ||  मोदी कैबिनेट का जल्द हो सकता है विस्तार  ||  ट्रिपल तलाक के फैसले पर औवेसी का जानिए रिएक्शन  ||  संघर्ष समाप्त करने के लिए एकमात्र रास्ता है बातचीत: PM मोदी  ||  Jet Airways की बड़ी लापरवाही, 174 यात्रियों की जान खतरे में डाली  ||  7 अगस्त को सामूहिक रूप से मनाया जायेगा श्रावणी उपाकर्म  ||  राहुल गांधी कार हमला मामले में BJP के युवा मोर्चा का नेता गिरफ्तार  ||  सोपोर में मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर, 1 जवान घायल  ||  98.21% हुआ मतदान, शाम 7 बजे नए उप राष्ट्रपति के नाम का ऐलान  ||  PM मोदी ने रामेश्वरम में किया डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक का उद्घाटन  ||  न्यूनतम वेतन विधेयक को केन्द्र से मिली मंजूरी, 4 करोड़ कर्मचारियों को मिलेगी राहत  ||  राहुल-शरद यादव की मुलाकात से JDU-BJP में हड़कंप  ||  आज रात 12 बजे खुलेंगे महाकाल के नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट  ||   अनोखे लड्डू गोपाल भोपाल में  ||  रूस व नेपाल के उप प्रधानमंत्री ने पीएम नरेंद्र मोदी से भेंट की  ||  

आलेख

  • एक अलहदा राजनेता शिवराजसिंह चौहान
  • PUBLISHED : Mar 04 , 9:41 AM
  • शिवराजसिंह सरकार के खिलाफ राजधानी भोपाल में प्रतिपक्ष कांग्रेस जंगी प्रदर्शन करती है और इस प्रदर्शन में शामिल होकर लौटते समय एक सडक़ हादसे में एक कांग्रेसी कार्यकर्ता की मृत्यु हो जाती है. इस कार्यकर्ता के परिवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह दो लाख रुपयों की मदद करते हैं. यह शायद पहली बार हो रहा हो कि जिसके खिलाफ मोर्चा खोला गया हो, वही आपकी मदद के लिए तत्पर है. इसी तरह विदिशा में सडक़ निर्माण का औचक निरीक्षण के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को मजदूरों नेे पहचानने से इंकार कर दिया.
  • अभिव्यक्ति की आजादी नहीं अलगाववादी नारे
  • PUBLISHED : Mar 03 , 4:28 AM
  • भारत में देश विरोधी गतिविधियों को जिस प्रकार से समर्थन मिलता दिखाई दे रहा है, वह किसी भी प्रकार से सही नहीं कहा जा सकता है। यहां पर सबसे बड़ा सवाल यह है कि हमारे देश में ही राष्ट्रवाद पर सवाल खड़े किए जाते हैं, जबकि अन्य देशों में ऐसे प्रकरणों पर कठोर कार्यवाही करने का प्रावधान है। दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के रामजस महाविद्यालय में घटित हुए ताजे प्रकरण ने राष्ट्रवाद के हमले को नए सिरे से दोहराया है, एक बार फिर अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर अलगाववाद को महिमामंडित करने का प्रयास किया गया। ऐसे मामलों में कुछ राजनीतिक दलों से संरक्षण प्राप्त करने वाले लोग जानबूझकर राष्टविरोधी गतिविधियों को संचालित करते हैं, लेकिन पूर्व योजना के अनुसार सारा ठीकरा केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर फोड़ा जाता है। यह बात सही है कि ऐसे मामले नरेन्द्र मोदी को बदनाम करने के लिए ही किए जा रहे हैं। जिन्हें हवा देने का काम हमारे देश के राजनीतिक दल कर रहे हैं।
  • मोदी की गर्जना व संकल्प पत्र के सहारे चुनावी मैदान में भाजपा
  • PUBLISHED : Feb 09 , 1:11 PM
  • नोटबंदी के ऐतिहासिक फैसले के बाद उप्र के विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी के लिये सबसे अहम होने जा रहे हैं यही कारण है कि भाजपा व संघ परिवार ने यूपी का चुनाव जीतने के लिये अपनी सारी ताकत अब झोक दी है। उप्र में भाजपा के सहयोगी दलों के साथ कुल मिलाकर 73 सांसद हैं यह चुनाव इन सभी सांसदों के लिये भी एक बेहद महतवपूर्ण अग्निपरीक्षा से कम नहीं होने जा रहे हैं। बीजेपी ने अपने सभी सांसदों के लिए कम से कम तीन विधायक जिताने का टारगेट रखा है। यही टारगेट उन्हें 2019 में दुबारा टिकट दिलवाने में भी मदद करेगा।
  • राजनीति में समग्र शुचिता के पुरोधा पं. दीनदयाल उपाध्याय
  • PUBLISHED : Feb 09 , 1:07 PM
  • राजनीति में आदर्श की बात करना सरल है, लेकिन आदर्शों को राजनीतिक जीवन की धुरी बनाकर बढ़ना कठिन ही नहीं आज दुर्लभ है। इसका कारण यह है, कि सामाजिक यथार्थ और भविष्य के समाज की कल्पना के लिये बनाये गये आदर्शों के बीच भारी संघर्ष है। इसे समझाने के लिए साठ के दशक पर गौर करना होगा। देश कांग्रेस युक्त था। लोकसभा उपचुनाव के लिये चार क्षेत्र रिक्त थे। बात 1963 की है जब विपक्ष के चार दिग्गज राजकोट से स्वतंत्र पार्टी के मीनू मसानी, उत्तरप्रदेश फरूखाबााद से समाजवादी पार्टी के डाॅ. राममनोहर लोहिया, अमरोहा से जेबी कृपालानी और जोनपुर से पं. दीनदयाल उपाध्याय कांग्रेस को चुनौती देने के उद्देश्य से चुनाव के मैदान में कूदे थे। डॉ. लोहिया फूलपुर से 1962 में भी पं. नेहरू को टक्कर दे चुके थे।
  • हिन्दू धर्म के आदि रक्षक संत रैदास
  • PUBLISHED : Feb 09 , 1:04 PM
  • लगभग सवा छः सौ वर्ष पूर्व 1398 की माघ पूर्णिमा को काशी के मड़ुआडीह ग्राम में संतोख दास और कर्मा देवी के परिवार में जन्में संत रविदास यानि संत रैदास को निस्संदेह हम भारत में धर्मांतरण के विरोध में स्वर मुखर करनें वाली और स्वधर्म में घर वापसी करानें वाली प्रारम्भिक पीढ़ियों के प्रतिनिधि संत कह सकतें है. संत रैदास संत कबीर के गुरुभाई और स्वामी रामानंद जी के शिष्य थे. उनकें कालजयी लेखन को इस तथ्य से समझा जा सकता है कि उनकें रचित 40 दोहे गुरु ग्रन्थ साहब जैसे महान ग्रन्थ में सम्मिलित किये गए हैं.
  • और अब शशिकला
  • PUBLISHED : Feb 09 , 12:44 PM
  • तमिलनाडु में जिस तरह से सत्ता परिवर्तन हो रहा है, वह भारतीय जनतंत्र की कुछ अजीबोगरीब उदाहरणों में शुमार किया जाएगा। आज तक कभी भी, कोई भी चुनाव न लडऩे वाली शशिकला वहां की मुख्यमंत्री बनने जा रही हैं। अपने यहां किसी बड़े लीडर के अचानक दृश्य से हट जाने के बाद आमतौर पर उसके किसी निकट संबंधी को उपहार में यह पद मिलता रहा है। शशिकला के साथ ऐसा भी नहीं है। उन्हें राज्य का सबसे बड़ा राजनीतिक पद सिर्फ इसलिए सौंपा जा रहा है कि वे राज्य की दिवंगत नेता जयललिता की करीबी रही हैं। जयललिता की मृत्यु के बाद से ही कयास लगाया जा रहा था कि शशिकला सत्ता पर काबिज हो सकती हैं, और ठीक ऐसा ही हुआ। पहले वह पार्टी महासचिव चुनी गईं और अब विधायक दल की नेता भी चुन ली गई हैं।
  • आखिर कब तक होगा कानून का दुरुपयोग
  • PUBLISHED : May 15 , 10:31 AM
  • भारत में लम्बे समय से यह देखा जा रहा था कि सत्ताधारी राजनीतिक दल अपने विरोधियों को ठिकाने लगे के लिए साम, दाम, दण्ड व भेद की कूटनातिक चालों को अंजाम देते रहे हैं। सरकारें अगर देश के कानून को अपने हिसाब से उपयोग करें तो उस देश भविष्य सुखमय नहीं कहा जा सकता। इसके बाद भी सरकारों ने कानून का अपने तरीके दुरुपयोग किया। कई बार देखा गया है कि राजनीतिक सत्ता का संचालन करने वाले लोगों के गलत काम का कोई अधिकारी कानून के दायरे में काम करता है तो उस अधिकारी को उसका अंजाम भुगतना ही पड़ता है। इस प्रकार कानून के दुरुपयोग किए जाने पर हम कह सकते हैं कि हमारा देश केवल और केवल राजनीतिक सत्ता जैसा चाहती हैं, उसी प्रकार से चलाती हैं।
  • बाल विवाह : चुनौती और सफलता
  • PUBLISHED : May 14 , 10:50 AM
  • -अनामिका भारतीय समाज संस्कारों का समाज है. जन्म से लेकर मृत्यु तक सिलसिले से विधान हैं. यह सारे विधान वैज्ञानिक संबद्धता एवं मनोविज्ञान पर आधारित है. जैसे-जैसे हम विकास की ओर बढ़ रहे हैं, वैसे-वैसे कामयाबी के साथ चुनौतियां हमारे समक्ष बड़ी से बड़ी होती जा रही हैं. यह एक सच है तो एक सच यह भी है कि इन संस्कारों में कई ऐसी रीति-रिवाज और परम्परा में कुछ ऐसी भी हैं जो समाज के समग्र विकास को रोकती हैं. इनमें से एक है बाल विवाह. वह एक समय था जब बाल विवाह की अनिवार्यता रही होगी लेकिन आज के समय में बाल विवाह लड़कियों के लिए जंजीर की तरह है. समय के साथ कदमताल करती लड़कियां अंतरिक्ष में जा रही हैं. सत्ता और शासन सम्हाल रही हैं. खेल और सिनेमा के मैदान में अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज करा रही हैं. ऐसे में उन्हें बाल विवाह के बंधन में बांध देना अनुचित ही नहीं, गैर-कानूनी भी है.
  • अगस्ता मामले में बौखलाहट के राज!
  • PUBLISHED : May 05 , 3:41 AM
  • भारत की राजनीति में अगस्ता वैस्टलैंड घोटाले को लेकर जिस प्रकार से बयानबाजी की जा रही है, उससे संदेह के बादल उमड़ते घुमड़ते दिखाई देने लगे हैं। कांग्रेस द्वारा जिस प्रकार से केन्द्र सरकार के मुखिया नरेन्द्र मोदी को घेरने की कवायद की जा रही है, वह प्रथम दृष्टया यह प्रमाणित करती दिखाई दिखाई दे रही है कि देश के प्रमुख राजनीतिक दलों द्वारा इस भ्रष्टाचार वाले मामले में देश की जनता को गुमराह करने का भरपूर प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा अब तो इसमें विद्युतीय प्रचार माध्यमों के कुछ पत्रकार भी शामिल होते जा रहे हैं। इसमें राजदीप सरदेसाई और बरखा दत्त का नाम लिया जाने लगा है। अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकाप्टर के मामले में यह तो कांग्रेस की सरकारों के दौरान ही तय हो गया था कि इस सौदे में सब कुछ ठीक नहीं है। अब कांग्रेस की ओर से ताजा बयान यह आया है कि सरकार के पास सबूत हो तो सरकार कार्यवाही करे। लेकिन सबसे बड़ा सबूत तो कांग्रेस ने ही अपनी सरकार के कार्यकाल में ही दे दिया था।
1

investigate

Prev Next

ओर भी..

View All

चकल्लस

ट्रिपल तलाक के फैसले पर औवेसी का जानिए रिएक्शन

Jet Airways की बड़ी लापरवाही, 174 यात्रियों की जान खतरे में

संतों से क्यों कन्नी काट रहे हैं कमलनाथ

मलेरिया की आड़ में साहब की नई गाड़ी

Next Prev
Copyright © 2012
Designing & Development by Swastikatech.com