Monday, December 18, 2017
Headlines
भ्रष्ट अधिकारियों पर फिर बिफरे सीएम, बोले भ्रष्टों को टांग दो  ||   भोपाल में खुले में शौच पर लगाया 500 रुपये का जुर्माना  ||   धूमधाम से मनाया गया शंकराचार्य जी का प्राकट्योत्सव  ||  सच में लोकतंत्र है तो धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ नहीं होगा : आजम खान  ||  मुस्लिम महिलाओं के लिए नए युग की शुरुआत : अमित शाह  ||  ट्रिपल तलाक पर के फैसले पर बोले पीएम, महिला सशक्‍तीकरण की दिशा में अहम कदम  ||  मोदी कैबिनेट का जल्द हो सकता है विस्तार  ||  ट्रिपल तलाक के फैसले पर औवेसी का जानिए रिएक्शन  ||  संघर्ष समाप्त करने के लिए एकमात्र रास्ता है बातचीत: PM मोदी  ||  Jet Airways की बड़ी लापरवाही, 174 यात्रियों की जान खतरे में डाली  ||  7 अगस्त को सामूहिक रूप से मनाया जायेगा श्रावणी उपाकर्म  ||  राहुल गांधी कार हमला मामले में BJP के युवा मोर्चा का नेता गिरफ्तार  ||  सोपोर में मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर, 1 जवान घायल  ||  98.21% हुआ मतदान, शाम 7 बजे नए उप राष्ट्रपति के नाम का ऐलान  ||  PM मोदी ने रामेश्वरम में किया डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक का उद्घाटन  ||  न्यूनतम वेतन विधेयक को केन्द्र से मिली मंजूरी, 4 करोड़ कर्मचारियों को मिलेगी राहत  ||  राहुल-शरद यादव की मुलाकात से JDU-BJP में हड़कंप  ||  आज रात 12 बजे खुलेंगे महाकाल के नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट  ||   अनोखे लड्डू गोपाल भोपाल में  ||  रूस व नेपाल के उप प्रधानमंत्री ने पीएम नरेंद्र मोदी से भेंट की  ||  

उत्खनन से मिले 50 हजार वर्ष पुराने 350 दुर्लभ प्राचीन पुराव

उत्खनन से मिले 50 हजार वर्ष पुराने 350 दुर्लभ प्राचीन पुरावशेष
Bookmark and Share
भोपाल। पुरातत्व विभाग के श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान द्वारा खरगोन जिले के मेहताखेड़ी जो नर्मदा घाटी में तहसील बड़वाह में पुरातात्विक उत्?खनन से बेशकीमती 50 हजार वर्ष प्राचीन 350 पुरावशेष मिले हैं। दक्षिण कोरिया के प्रोफेसर डॉ. किडॉग ने उत्खनन स्थल का भ्रमण किया। उन्होंने यहाँ उत्खनन से बेहतर निष्कर्ष प्राप्त होने का दावा किया है। पुरातत्व आयुक्त अनुपम राजन ने बताया कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण नई दिल्ली से वर्ष 2017 के जनवरी माह में अनुमति प्राप्त होने के बाद देश की प्रसिद्ध पुरातत्वविद्, डेक्कन कॉलेज पूना की पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शीला मिश्रा के नेतृत्व में उत्खनन दल का गठन किया गया। संस्थान की और से शोध अधिकारी डॉ. जिनेन्द्र जैन, शोध सहायक डॉ. ध्रुवेन्द्र सिंह जोधा एवं डेक्कन कॉलेज के शोधार्थी डॉ. नीतू अग्रवाल, नम्रता विश्वास और गरिमा खन्सीली को यह जिम्मेदारी सौंपी गई। राजन ने बताया कि प्रोफेसर शीला मिश्रा एवं गठित दल ने फरवरी के द्वितीय सप्ताह में उत्खनन का कार्य शुरू किया। एक पखवाड़े में ही ट्रेन्च क्रमांक 1 से 200 एवं ट्रेन्च क्रमांक 2 से 150 पुरावशेष मिल चुके हैं। इनका विश्लेषण कर निष्कर्ष निकाले जायेंगे। इस तरह के उत्खनन में भू-गर्भीय जमाव, पुरा-भौगोलिक विश्लेषण और उपकरण प्रारूप के आधार पर मानव सभ्यता के विकास का अध्ययन किया जाता है। उत्खनन में प्राप्त मिट्टी को घोल कर व छान कर सूक्ष्म अवशेषों को खोजने का काम किया जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि प्रो. शीला मिश्रा ने वर्ष 2009 में कराये गये उत्खनन से आधुनिक मानव से संबंधित अवशेष शुतुरमुर्ग के अंडे के टुकड़े प्राप्त किये थे। इन माइक्रो-ब्लेड की तिथि फिजिकल रिसर्च लेबोरेट्री अहमदाबाद के प्रो. सिंघवी द्वारा 50 हजार वर्ष पुरानी आँकी गई है। शुतुरमुर्ग के अंडे की कार्बन तिथि 42 हजार से अधिक पहले की प्रमाणित हुई है। माइक्रोलिथ यह औजार एवं उपकरण जिनका उपयोग प्रागैतिहासिक मानव द्वारा शिकार और उसके बाद के कार्य में लकड़ी और हड्डी में लगाकर किया जाता था।
पुरातत्व आयुक्त राजन ने बताया कि हाल ही में किए गए पुरातत्वीय और जैवकीय अनुसंधानों के निष्कर्ष से सिद्ध होता है कि आज का मानव अनेक विभिन्नताओं के बावजूद एक लाख वर्ष पहले के दक्षिण अफ्रीका से प्रसारित समूहों से संबंध रखता है। मेहताखेड़ी क्षेत्र का मानव 50 हजार साल पहले अफ्रीका से विश्व में फैले मानव समूह से संबंधित है। राजन ने बताया कि मेहताखेड़ी से मिले प्राचीनतम पुरावशेष प्रमाणित करते हैं कि प्रदेश में प्राचीन, दुर्लभ ऐतिहासिक सामग्री प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है।

investigate

Prev Next

ओर भी..

View All

चकल्लस

ट्रिपल तलाक के फैसले पर औवेसी का जानिए रिएक्शन

Jet Airways की बड़ी लापरवाही, 174 यात्रियों की जान खतरे में

संतों से क्यों कन्नी काट रहे हैं कमलनाथ

मलेरिया की आड़ में साहब की नई गाड़ी

Next Prev
Copyright © 2012
Designing & Development by Swastikatech.com