कोर्टयार्ड मैरियट चैरिटी दौड़ रन टू गिव में दौड़ीं हस्तियां व सैकड़ों शहरवासी

भोपाल। देश की अनेकों हस्तियों सहित सैकड़ों शहरवासी आज सुबह कोर्टयार्ड मैरियट, भोपाल द्वारा कुष्ठ रोगियों के सहायतार्थ आयोजित रन टू गिव दौड़ में शामिल हुए। इनमें कोर्टयार्ड मैरियट के सहयोगी व मेहमान भी बड़ी संख्या में शामिल थे। सुबह 7 बजे आरंभ हुई 3.3 किलोमीटर की इस दौड़ को कोर्टयार्ड मैरियट के महाप्रबंधक विजयन गंगाधरन ने रवाना किया। यह दौड़ शिवाजी नगर, व्यापम चैराहा व शौर्य स्मारक होकर वापस होटल पहंुची।
इस दौड़ में विभिन्न क्षेत्रों की जिन हस्तियों ने भाग लिया उनमें ओलम्पियन व काॅमनवेल्थ स्कीट शूटर मैराज खान, भोजपुर क्लब एसोसिएशन के अध्यक्ष व ट्रस्टी अरूणेश्वर सरन सिंहदेव, मिसेस इंडिया इम्प्रेस व आईएमए, जबलपुर की ज्वाइंट सेक्रेटरी डाॅ. अबोली पांसे, अखिल भारतीय मानवाधिकार निगरानी समिति के अध्यक्ष व समाजसेवी पंकज अरोरा, वल्र्ड ट्रांसप्लांट गेम्स 2019 की गोल्ड मेडलिस्ट अंकिता श्रीवास्तव, पूर्व आईएएस डाॅ. एम मोहन राव तथा एडीजी रेलवे श्रीमती अरूणा राव शामिल थे।
इस दौड़ का प्रथम पुरस्कार वीरेंद्र दत्त को मिला जबकि रियाजुद्दीन अली को द्वितीय पुरस्कार मिला। इसी प्रकार धर्मेंद्र कुमार को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। इन तीनों विजेताओं को मेडल से सम्मानित किया गया जबकि सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान किये गए। इस दौड़ में जहां एक ओर बड़ी संख्या में महिलाओं की भागीदारी रही तो वही 10 से 15 वर्ष की उम्र के बच्चे भी न सिर्फ दौड़ में शामिल हुए बल्कि उन्होंने दौड़ पूरी भी की।
यह दौड़ आज एशिया प्रशांत के 206 से अधिक स्थानों पर भी आयोजित की गई। 2014 में शुरू हुई वार्षिक रन टू गिव होटल के सहयोगियों को स्थानीय धर्मार्थों का समर्थन करने के लिए विभिन्न शहरों में रन आयोजित करने के लिए एक साथ लाती है। इस वर्ष भोपाल में मैरियट के कोर्टयार्ड ने चेन्नई स्थित एक गैर सरकारी संगठन, राइजिंग स्टार आउटरीच के लिए धन जुटाने के प्रयासों में भाग लिया, जो सीधे मैरियट होम में कुष्ठ रोग से प्रभावित बच्चों के जीवन को प्रभावित करता है, जहां उनकी प्यार से देखभाल की जाती है व नया जीवन प्रदान किया जाता है।
कंपनी के टेककेयर अभियान के तहत एशिया पैसिफिक में रन टू गिव एक महत्वपूर्ण आयोजन है, जिसका उद्देश्य कंपनी के मुख्य मूल्यों को मजबूत करते हुए, शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक भलाई को बढ़ावा देने और मजबूत टीम तालमेल बनाकर अपने सर्वश्रेष्ठ जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित करना है।