370 हटना बीजेपी के लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं

मुंबई। रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अमित शाह ने मुंबई में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 देश को एक सूत्र में जोड़ने में बाधक था. बीजेपी ने दूसरी बार सत्ता में आते ही इस बाधा को खत्म कर दिया है. शाह ने कहा कि जब से अनुच्छेद 370 और 35-ए वजूद में आया था तभी से जनसंघ और बीजेपी ने इसका विरोध किया है. 370 देश के साथ कश्मीर के जुड़ाव में बाधा रही है, साथ ही देश की एकता में भी बाधा रही है. अमित शाह मुंबई में धारा 370 पर कार्यक्रम को संबोधित करने पहुंचे थे. मुंबई के गोरेगांव स्थित नेस्को ग्राउंड पर आयोजित जन जागरण अभियान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 के कारण देश में आतंकवाद आया. इसके बाद ही कश्मीर से कश्मीरी पंडितों, सूफी-संतों को निकाल दिया गया और आतंकवाद चरम पर पहुंचा. अब तक 370 के कारण करीब 40 हजार लोग मारे गए और कांग्रेस पूछती है कि 370 को क्यों हटाया गया. शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी के साहस और हौसले की वजह से इस बार संसद के पहले ही सत्र में अनुच्छेद 370 को उखाड़ कर फेंक दिया गया. अमित शाह ने कहा कि संस्कृति की रक्षा के लिए अनुच्छेद 370 की जरूरत नहीं है. गुजरात, महाराष्ट्र और केरल को इसकी जरूरत नहीं पड़ी. जम्मू-कश्मीर में भ्रष्टाचार बंद हो जाता इसलिए वहां के तीन परिवारों ने 370 को संभालकर रखा. शाह ने कहा कि आज पूरा हिन्दुस्तान चाहता है कि पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) भारत का हिस्सा बने. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महाराष्ट्र की चुनावी जंग में 370 का मुद्दा उठाते हुए कहा कि ये नेहरू की गलती थी जिसकी वजह से पीओके बना और आज मौजूद है. अमित शाह ने कहा, महाराष्ट्र चुनाव पर उन्होंने कहा कि चुनाव में दो तरह की पार्टियां चुनाव के मैदान में हैं. एक ओर भारत मां को अपना सर्वस्व मानने वाली पार्टी बीजेपी है और दूसरी ओर अपने परिवारों को अपना सर्वस्व मानने वाली कांग्रेस और एनसीपी है. अब महाराष्ट्र की जनता को तय करना है कि उन्हें राष्ट्रवादी पार्टी के साथ जाना है या परिवारवादी पार्टियों के साथ जाना है. शाह ने कहा कि महाराष्ट्र में आगामी विधानसभा चुनाव के बाद देवेंद्र फडणवीस दोबारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनेंगे. बता दें कि चुनाव आयोग ने शनिवार को महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया. महाराष्ट्र की 288 सीटों पर एक चरण में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होगा और 24 अक्टूबर को परिणाम की घोषणा होगी।